Tuesday, November 17, 2009

Thought for the day (Hindi)

मैं अकेला ही चला था जानिब-ऐ-मंजिल मगर, लोग साथ आते गए और कारवाँ बंता गया

मजरूह सुल्तानपुरी
Post a Comment